स्मार्टफ़ोन टिप्स: पहचानें कि क्या आपके स्मार्टफ़ोन में वायरस है, चरणों को देखें



हाइलाइट्स: हैकर्स उपयोगकर्ताओं से महत्वपूर्ण जानकारी चुराते हैं। व्यक्तिगत डेटा चोरी करना एक बड़ी समस्या है। युक्तियों का पालन करें और अपने फोन को सुरक्षित रखें। नई दिल्ली: फोन हैक करना और मोबाइल से व्यक्तिगत डेटा चोरी करना एक बड़ी समस्या बनती जा रही है। हैकर्स वायरस के जरिए लोगों की निजी जानकारियां चुरा रहे हैं। इसके लिए हैकर्स मोबाइल ऐप्स का इस्तेमाल करते हैं और स्मार्टफोन में वायरस इंस्टॉल करते हैं। अपने स्मार्टफोन में वायरस का पता कैसे लगाएं और अपने स्मार्टफोन को इससे कैसे बचाएं इसके बारे में और जानें। और पढ़ें: जियो बनाम एयरटेल बनाम वोडाफोन आइडिया मान लीजिए कि स्मार्टफोन में वायरस ऐप है। फोन डेटा का जल्दी खत्म होना या फोन का ज्यादा बिल आना भी इस बात का संकेत हो सकता है कि फोन पर हैकर्स का नियंत्रण है। स्मार्टफ़ोन में अतिरिक्त विज्ञापन सूचनाएं भी इस बात का संकेत हो सकती हैं कि आपके डिवाइस में वायरस है। अगर आपके फोन से आपके कॉन्टैक्ट्स को कोई स्पैम मैसेज जाता है। यह बड़ी चिंता का विषय है। इसका मतलब है कि हैकर्स आपके फोन के साथ-साथ दूसरे लोगों के डिवाइस में भी वायरस इंस्टाल कर देंगे। अगर आप इससे बचना चाहते हैं तो इन टिप्स को फॉलो करें। इन थर्ड पार्टी ऐप्स में ऐसे लिंक होते हैं जो हैकर्स को आपकी व्यक्तिगत जानकारी चुराने की अनुमति देते हैं। हैकर्स से बचने के लिए मजबूत पासवर्ड का इस्तेमाल करें। मजबूत पासवर्ड बनाने के लिए आप पासवर्ड जनरेटिंग ऐप का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा आप अक्षरों को संख्याओं में मिलाकर मजबूत पासवर्ड बना सकते हैं।पढ़ें: लैपटॉप: लैपटॉप उपयोगकर्ताओं के लिए नया विकल्प, 65W फास्ट चार्जिंग के साथ Infinix Inbook X1 भारत में 8 दिसंबर को होगा लॉन्च: आधार कार्ड अपडेट: नाम-पता अपडेट करें- आधार कार्ड में मोबाइल नंबर मराठी में, निम्न चरणों को देखें: राशन कार्ड अपडेट: घर बैठे ही राशन कार्ड में परिवार का नाम अपडेट करें, इन चरणों का पालन करें।



Source link

Leave a Comment